सीताराम सेकसरिया का जीवन परिचय | Sitaram Seksaria ka jivan parichay

(Sitaram Seksaria ka jivan parichay (सीताराम सेकसरिया) का जीवन परिचय, sitaram kesria information in Hindi, सीताराम सेकसरिया का जन्म कहाँ हुआ था?,सीताराम सेकसरिया का जन्म कब हुआ था? )

सीताराम सेकसरिया का जीवन परिचय | Sitaram Seksaria ka jivan parichay

नमस्कार दोस्तो आज हम आपको sitaram Seksaria ( सीताराम सेकसरिया) के जीवन और उनकी रचनाएं उनके योगदान और उनको मिले पुरस्कार उनका जन्म कब कहां और मृत्यू कहां हुई और उनके जीवन की पुरी जानकारी देने वाले है अगर आप कक्षा 10 के विद्यार्थी है या आप सीताराम सेकसरिया के जीवन के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट को समाप्ति तक पढ़िएगा।

सीताराम सेकसरीया{Sitaram Seksaria} का संक्षिप्त में जीवन परिचय –

अगर आप कम शब्दो में सीताराम सेकसरिया जी के बारे में जानना चाहते है या आपके एग्जाम में 2 या 3 नंबर के सवाल के लिय आप यह जीवन परिचय लिख सकते हो​ सीताराम सेकसरिया का जन्म 1892 में राजस्थान के नवलगढ़ नामक स्थान पर हुआ।​इनका जन्म तो राजस्थान में हुआ परंतु इनके जीवन का अधिकांश समय कोलकाता में व्यतीत हुआ​ इनकी प्रमुख रचनाएं निम्नलिखित हैं -​स्मृतिकण , बीतायुग, एक कार्यकर्ता की डायरी ( इसके दो भाग प्रकाशित हुए थे),नई याद, मन की बात इत्यादि इनकी प्रमुख रचनाएं हैं​भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया और आजाद हिंद फौज के मंत्री भी रहे​1962 में पद्म श्री सम्मान से सम्मानित हुए ​भारतीय भाषा परिषद की स्थापना की थी सीताराम सेकसरिया की मृत्यू – 1982 में हुई।

सीताराम सेकसरिया{Sitaram Seksaria} का विस्तारित जीवन परिचय

तो अब हम विस्तार से बात करते है सीताराम जी के बारे में तो सीताराम सेकसरिया का जन्म राजस्थान के नवलगढ़ नामक जगह पर 1962 में हुआ था। इनको स्कूली शिक्षा प्राप्त करने का अवसर नहीं मिला लेकिन पढ़ने की चाहत के कारण इन्होंने स्वाध्यान कर पढ़ना और लिखना सीख लिया। इनका जन्म तो राजस्थान में हुआ लेकिन जीवन का अधिकांश वक्त कोलकाता में बीता। सीताराम जी एक व्यापारी और व्यवसाय से जुड़े हुए थे अर्थात इसमें उनकी रुचि थी । महात्मा गांधी के कहने पर भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई वहां पर इनकी मुलाकात कहीं स्वतंत्रता सेनानियो के साथ हुई – गुरुदेव रवीन्द्र नाथ ठाकुर, नेताजी सुभाषचंद्र बोस आदि लोगो से जान पहचान हुई । नेताजी सुभाषचंद्र से मित्रता के कारण आजाद हिंद फौज के मंत्री भी रहे। आंदोलन के कारण कहीं बार जेल में भी रहना पड़ा। उन्होंने भारत को आगे बढ़ाने और शिक्षित करने के लिए कहीं संस्थाएं का निर्माण करवाया – उच्च विद्यालय संस्थान, मारवाड़ी बालिका विद्यालय,समाज सुधार समिति, एक सामाजिक संगठन इत्यादि। अपने सामाजिक योगदान के कारण भारत सरकार द्वारा इनको 1962 में पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया गया था। सीताराम सेकसरिया ने हिंदी भाषा को बड़ावा देने और अंग्रेजी के प्रचार प्रसार को रोकने के लिए अपने मित्र भागीरथ कनोडिया के साथ मिलकर अपनी वृद्धावस्था करीब 80 वर्ष की उम्र में 1974 में भारतीय भाषा परिषद की स्थापना की इसका मुख्य उद्देश्य था अंग्रजी के बढ़ते प्रसार को रोकना और हिंदी तथा भारतीय भाषाओं के बीच आदान प्रदान और संबंध स्थापित हो सके। इनकी मृत्यू 1982 में हुई थी।

हमने घंटो मेहनत करके जितनी जानकारी सीताराम सेकसरिया जी के बारे में उपलब्ध थी वो आपको देने का हरसंभव प्रयास किया है कृपया अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करे और अच्छी जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर पधारते रहे आपको रोजाना नया आर्टिकल सुबह 8 बजे रोजाना मिलेगा।

CONCLUSION

तोह इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको लेखक सीताराम सेकसरिया जी के जीवन और उनकी रचनाएं और उनको मिले पुरस्कार और अच्छे कार्य के बारे में जानकारी दी है ।

FAQ

अब कुछ आपके बार बार पूछे गए सवालों के जवाब नीचे दिए जा रहे है

सीताराम सेकसरिया का जन्म कहाँ हुआ था ?

सीताराम सेकसरिया का जन्म 1892 में राजस्थान के नवलगढ़ नामक स्थान पर हुआ।​

सीताराम सेकसरिया का जन्म कब हुआ था

सीताराम सेकसरिया का जन्म 1962 में हुआ था।

सीताराम सेकसरिया की मृत्यु कब हुई

सीताराम सेकसरिया की मृत्यु 1982 में हुई थी।

Leave a Comment